सर्दियों में डिलीवरी होने वाली है इन बातों का ध्यान रखें

सर्दियों का मौसम वैसे तो बहुत ही अच्छा होता है लेकिन इस दौरान यदि थोड़ी सी भी लापरवाही बरती जाए तो इस कारण सर्दी, खांसी, बुखार, गले में इन्फेक्शन जैसी परेशानियां हो जाती है। इसीलिए मौसम के बदलाव के साथ सेहत का ज्यादा ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। आज इस आर्टिकल में हम उन महिलाओं के बारे में कुछ ध्यान देने योग्य बातों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिन महिलाओं की डिलीवरी सर्दियों में होने वाली होती है।

क्योंकि डिलीवरी होने के बाद यदि महिला थोड़ी भी लापरवाही बरतती है तो इसका असर न केवल महिला की सेहत पर पड़ता है। बल्कि इसके कारण बच्चे को भी नुकसान होता है, क्योंकि माँ यदि बीमार हो जाती है तो नवजात की केयर भी अच्छे से नहीं हो पाती है। तो आइये अब सर्दियों में डिलीवरी होने पर महिला को किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए जिससे माँ व् बच्चे दोनों को दिक्कत न हो उस बारे में बताने जा रहे हैं।

सर्दी से बचने के लिए गर्म कपड़ें पहनें

सर्दियों में डिलीवरी होने के बाद बच्चे के साथ माँ को भी गर्म कपडे पहनने चाहिए। शरीर के साथ हाथ, पैर, सिर को भी अच्छे से ढक कर रखना चाहिए। क्योंकि ऐसा माना जाता है की महिला की डिलीवरी होने के बाद चालीस दिन तक यदि महिला अपना अच्छे से ध्यान रखती है तो महिला को आगे चलकर दिक्कत नहीं होती है और महिला जल्दी फिट होती है। ऐसे में महिला को सर्दी में अपने आप को बचाकर रखना चाहिए ताकि महिला को सर्दी के कारण कोई दिक्कत न हो।

गर्म पानी का इस्तेमाल

डिलीवरी के बाद सर्दियों में ठन्डे पानी का इस्तेमाल महिला को बिल्कुल नहीं करना चाहिए। बल्कि यदि हाथ भी धोने हैं तो गुनगुना पानी लें। नहाने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें इससे शरीर की सिकाई भी होगी और सर्दी से भी बचाव होगा। पीने के लिए भी गुनगुने या गर्म पानी का इस्तेमाल करें।

ध्यान रखें की शरीर में पानी की कमी न हो

सर्दी के मौसम में प्यास कम ही लगती है ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की महिला पानी का सेवन करना नहीं भूलें। क्योंकि शरीर में पानी की कमी होने के कारण महिला को थकान, कमजोरी, दूध की मात्रा में कमी, स्किन से जुडी परेशानियां, बॉडी पेन आदि का खतरा बढ़ जाता है।

मसाज

डिलीवरी के बाद बच्चे की मालिश रोजाना करने के साथ महिला को अपने शरीर की मालिश भी करवानी चाहिए। इससे शरीर को आराम मिलता है और महिला को जल्दी फिट होने में मदद मिलती है। क्योंकि इससे शरीर में ब्लड फ्लो अच्छे से होता है। ध्यान रखें की यदि आपकी डिलीवरी सिजेरियन हुई है या आपको नोर्मल डिलीवरी में भी टाँके आये हैं तो आप मसाज करवाने से पहले डॉक्टर की राय जरूर लें। इसके अलावा ध्यान रखें की मसाज बंद कमरे में करवाएं ताकि आपके शरीर को ठंडी हवा नहीं लगे।

सर्दियों में खान पान का रखें ध्यान

यदि आपकी डिलीवरी सदियों में हुई है तो आपको रोजाना दो से तीन गिलास दूध पीने के साथ गोंद या ड्राई फ्रूट के लड्डू भी खाने चाहिए। क्योंकि यह लड्डू सर्दियों में आपके लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। क्योंकि इन लड्डुओं को बनाने में जिन चीजों का इस्तेमाल होता है उनकी तासीर गर्म होती है सर्दियों के आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसके अलावा महिला को सब्जियों से बने सूप, दालों, हरी सब्जियों, फ्रूट्स आदि का भी भरपूर सेवन करना चाहिए।

आराम करें

यदि गर्मियों में आपकी डिलीवरी होती है तो गर्मी के कारण आपको परेशानियां हो सकती है। लेकिन यदि आपकी डिलीवरी सर्दियों में हुई है तो आप बहुत लकी हैं। क्योंकि सर्दियों में डिलीवरी होने पर आप अच्छे से आराम कर सकती है। और जितना अधिक डिलीवरी के बाद महिला आराम करती है उतना ही ज्यादा महिला को फिट होने में मदद मिलती है।

कमरे में हीटर लगाकर न सोएं

डिलीवरी के बाद सर्दी से बचने के लिए रात को बंद कमरे में हीटर चलाकर नहीं सोएं क्योंकि ऐसा करने से दम घुट सकता है। यदि आप सर्दी से बचने के लिए हीटर चलाती हैं तो ध्यान रखें की की कमरे को खोलकर सोएं ताकि अंदर बहुत ज्यादा हीट न हो जिससे आपको या बच्चे को कोई दिक्कत हो।

एक्स्ट्रा कपडे रखें अपने पास

सर्दियों में कपडे सूखने की बहुत समस्या होती है ऐसे में डिलीवरी के बाद आपको कपड़ों के कारण कोई दिक्कत न हो। इससे बचने के लिए आपको पहले ही एक्स्ट्रा कपडे लाकर रख लेने चाहिए, केवल पहनने के लिए ही नहीं बल्कि चादर, कम्बल, बच्चे के बिछोने आदि भी लाकर जरूर रखें।

संक्रमित व्यक्ति से दूरी रखें

ध्यान रखें की सर्दी के मौसम में ऐसे व्यक्ति से दूरी बनाकर रखें जिसे संक्रमण की समस्या जैसे की खांसी जुखाम हो। क्योंकि ऐसे व्यक्ति के करीब जाने के कारण आपको भी दिक्कत हो सकती है।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान सर्दियों में डिलीवरी होने के बाद महिला को जरूर रखना चाहिए। यदि महिला इन बातों का ध्यान रखती है तो ऐसा करने से माँ व् बच्चे दोनों को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

Precautions for winter baby delivery tips