डिलीवरी के बाद अलसी क्यों खाया जाता है?

0

बच्चे के जन्म के बाद भी महिला के शरीर में बहुत से बदलाव आते हैं। जैसे की महिला को थकान कमजोरी अधिक होने लगती है, वजन ज्यादा बढ़ जाता है, आदि। ऐसे में डिलीवरी के बाद महिला जल्दी से जल्दी फिट हो सके इसके लिए महिला अपनी डाइट का अच्छे से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। और अपनी डाइट में ऐसी चीजों को शामिल करने की सलाह दी जाती है। जो महिला को जल्दी से जल्दी स्वस्थ होने और बच्चे के विकास में फायदेमंद हो। और ऐसी ही एक चीज हैं अलसी, अलसी को महिला दाल के रूप में लड्डू के रूप में खा सकती है।

अलसी में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाइबर, पोटैशियम, सेलेनियम जैसे पोषक भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। और यह सभी पोषक तत्व महिला को जल्दी से जल्दी फिट करने में मदद करते हैं इसीलिए डिलीवरी के बाद महिला को अलसी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। तो आइये अब इस आर्टिकल में आगे हम आपको डिलीवरी के बाद अलसी का सेवन करने से कौन कौन से फायदे मिलते हैं उसके बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

ब्रेस्टमिल्क बढ़ता है

बच्चे के जन्म के बाद स्तनपान बच्चे के लिए अमृत के समान होता है। ऐसे में जरुरी होता है बच्चे के लिए पर्याप्त ब्रेस्टमिल्क का उत्पादन हो। अलसी का सेवन करने से गर्भवती महिला के स्तनों में दूध के उत्पादन में वृद्धि होती है जिससे शिशु को ब्रेस्टमिल्क भरपूर मात्रा में मिलता है।

थकान व् कमजोरी होती है दूर

अलसी में कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, सेलेनियम जैसे पोषक भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। जो डिलीवरी के बाद महिला के शरीर में आई कमजोरी को दूर करने में मदद करते हैं। जिससे महिला को फिट व् स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

READ  इन चीजों को खाने से शिशु का विकास बेहतर होता है?

वजन कण्ट्रोल होता है

अलसी का सेवन करने से महिला का मेटाबोलिज्म सही रहता है जिससे डिलीवरी के बाद महिला के बढे हुए वजन को कण्ट्रोल करने में मदद मिलती है।

कब्ज़ से बचाव

अलसी में फाइबर प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जो महिला की पाचन क्रिया को बेहतर करने, भोजन को अच्छे से हज़म करने, पेट को साफ रखने में मदद करता है। जिससे महिला को पेट सम्बन्धी परेशानियों से बचे रहने में मदद मिलती है।

बिमारियों से बचाव

अलसी में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। जो डिलीवरी के बाद महिला को बिमारियों से सुरक्षित रहने में मदद करते हैं। और जब माँ सुरक्षित रहती है तो शिशु को भी बिमारियों से बचे रहने में मदद मिलती है।

कैसे बनाएं अलसी के लड्डू?

यदि आप गोंद, ड्राई फ्रूट, सौंठ, अजवाइन की तरह अलसी के भी लड्डू बनाना चाहती है। तो आप बना सकती हैं, आइये अब हम आपको अलसी के लड्डू बनाने की विधि बताने जा रहे हैं।

  • सबसे पहले एक कढ़ाई लें और उसे गैस पर गर्म होने के लिए रख दें।
  • उसके बाद जितनी अलसी के आपने लड्डू बनाने हैं उसे कढ़ाई में धीमी आंच पर अच्‍छी तरह से भून लें।
  • अलसी को भुनने में 10 मिनट से ज्‍यादा का समय लगेगा।
  • फिर जब अलसी अच्छे से भून जाये उसके बाद उसे कढ़ाई में से निकाल लें।
  • अलसी को कढ़ाई से निकालने के बाद कढ़ाई में घी डालें।
  • फिर आपने जो जो ड्राई फ्रूट इसमें डालने हैं जैसे की मखाने, गोंद, बादाम, गोला आदि को अच्छे से भून फ्राई करके बाहर निकाल लें।
  • फिर इन सभी ड्राई फ्रूट्स और अलसी के बीजों को अलग अलग पीस लें।
  • उसके बाद कढ़ाई में गुड़ डालकर एक से दो चम्‍मच पानी डालें और गुड़ को गैस पर पिघलने के लिए रख दें।
  • अब एक एक बड़ी थाली या प्रात लें और उसमें पिसी हुई अलसी डालें।
  • फिर सभी ड्राई फ्रूट्स को डाल दें उसके बाद इन सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लें।
  • उसके बाद गर्म पिघला हुआ गुड़ इसमें डालें और मिक्‍स कर दें।
  • फिर इसमें घी को पिघलाकर मिक्स कर दें और हाथों से लड्डू बनाकर तैयार कर लें।
READ  सिजेरियन डिलीवरी हुई है या होने वाली है? तो इन बातों का ध्यान रखें

तो यह हैं डिलीवरी के बाद अलसी के लड्डू बनाकर खाने के फायदे व् अलसी के लड्डू बनाने की विधि। यदि आप भी डिलीवरी के बाद जल्दी से जल्दी फिट होना चाहती हैं तो आपको भी अलसी के लड्डू बनाकर जरूर खाने चाहिए।

Why flax seed is eaten after delivery

Leave A Reply

Your email address will not be published.