शिशु को बुखार होने पर क्या खिलाना चाहिए

0

छोटे बच्चे को बुखार होने का मतलब होता है की घर के हर एक व्यक्ति का परेशान होना। क्योंकि बच्चे को बुखार होने पर बच्चा बहुत चिड़चिड़ा हो जाता है, बहुत ज्यादा रोता है, खाने पीने में दिक्कत करता है, आदि। जिससे घर के सभी सदस्य परेशान रहते हैं। लेकिन यदि बच्चे को ठीक करना है। तो दवाई के साथ बच्चे के खान पान का ध्यान रखना भी जरुरी होता है।

ऐसे में बच्चा यदि छह महीने तक का है तो बच्चे के लिए माँ का दूध ही सर्वोत्तम आहार है। लेकिन यदि आपका बच्चा छह महीने से बड़ा है तो आपको बच्चे के खान पान का ध्यान रखना ज्यादा जरुरी होता है। ताकि बच्चे के शरीर में कमजोरी को दूर करने व् बच्चे को जल्दी स्वस्थ करने में मदद मिल सके। तो आइये अब जानते हैं की बच्चे को बुखार होने पर क्या खिलाएं।

दाल का पानी

छोटे बच्चों के लिए मूंग दाल सबसे ज्यादा फायदेमंद होती है। क्योंकि इसे पचाना बच्चे के लिए आसान होता है। ऐसे में बच्चे के शरीर का तापमान बढ़ने पर आप बच्चे को मूंग दाल का पानी पिलाएं। आप चाहे तो दाल को भी अच्छे से पीस कर सूप बनाकर भी बच्चे को खिला सकते हैं।

खिचड़ी

थोड़े से चावल और थोड़ी सी दाल को उबालकर पतली पतली खिचड़ी बनाएं। और उसे अच्छे से मैश करके बच्चे को खिलाएं। खिचड़ी बुखार होने पर बच्चे को खिलाएं जाने वाला बेहतरीन आहार है।

दलिया

यदि आपके बच्चे को बुखार है और बच्चे का कुछ खाने का मन नहीं कर रहा है। तो आप उसे दाल या सब्जियों से बना दलिया खिलाएं। ध्यान रखें की दलिया बनाने के बाद उसे अच्छे से मैश कर लें। ताकि बच्चे को खाने में कोई दिक्कत न हो। यदि आपका बच्चा मीठा दलिया खाता है तो आप उसे वो भी खिला सकती हैं।

उबला हुआ आलू

आलू को उबालकर उसे अच्छे से पास लें अब उसमे थोड़ा नमक मिलाकर बच्चे को खिलाएं। ज्यादातर बच्चों को उबला हुआ आलू खाना बहुत पसंद भी होता है।

सूप

सब्जियों को अच्छे से उबालकर सूप बनाएं। अब उस सूप में मौजूद सब्जियों को अच्छे से पीस लें। और अच्छे से मिक्स करके बच्चे को खिलाएं। सूप भी बुखार होने पर बच्चों को खिलाने के लिए एक हेल्दी आहार होता है।

फल

सेब, केला, संतरा, जैसे फलों का छिलका उतरकर उन्हें अच्छे से पीस लें। अब इन फलों को बच्चे को थोड़ा थोड़ा करके खिलाएं। लेकिन ध्यान रखे की बच्चा जितना खाएं उतना ही खिलाएं। और जब भी बच्चे को खिलाएं उसके लिए ताजे फल का इस्तेमाल करें। पहले का रखा हुआ फल बच्चे को न खिलाएं।

तरल पदार्थ

खाने के साथ बच्चे को पानी का सेवन भी भरपूर करवाएं। लेकिन ध्यान रखें की बच्चे को पानी उबालने के बाद ठंडा करके पिलाएं। इसके अलावा आप चाहे तो बच्चे को नारियल पानी, घर में निकला फलों का ताजा जूस भी पीला सकती है।

तो यह हैं कुछ चीजें जो छोटे बच्चे को बुखार होने पर आपको देनी चाहिए। ताकि बच्चे को जल्दी से जल्दी ठीक होने में मदद मिल सके। इसके अलावा एक बात का ध्यान रखें की दही बच्चे को खिलाना फायदेमंद होता है। लेकिन बुखार, कफ, खांसी, जुखाम आदि होने पर बच्चे को दही न दें। क्योंकि दही की तासीर ठंडी होती है जो शिशु की परेशानी को बढ़ा सकती है। इसके अलावा बच्चे के साथ जबरदस्ती न करें बच्चे का जितना मन है उतना खिलाएं। साथ ही बच्चे को खाने खिलाने के बाद कंधे से लगाएं ताकि उसका खाना हज़म हो सकें।