प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा करने के फायदे और नुकसान

प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा करने के फायदे और नुकसान
0

प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा

गर्भावस्था किसी भी महिला के लिए एक बहुत ही खूबसूरत अहसास है, लेकिन साथ ही इस दौरान महिला को बहुत सी परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है। इसके अलावा गर्भवती महिला द्वारा बरती गई थोड़ी सी लापरवाही का असर गर्भवती महिला के स्वास्थ्य के साथ गर्भ में पल रहे शिशु पर भी पड़ता है। ऐसे में घर के किसी भी काम को लेकर प्रेग्नेंट महिला के मन में सवाल रहता है की प्रेगनेंसी के दौरान यह काम करना ठीक है या नहीं। जैसे की झाड़ू पोछा लगाना, बहुत सी गर्भवती महिलाओं को आपने प्रेगनेंसी के आखिरी महीने में झाड़ू पोछा लगाते हुए अधिक देखा होगा, क्योंकि बहुत से लोग ऐसा भी मानते हैं की प्रेगनेंसी के आखिरी महीने में ऐसा करने से नोर्मल डिलीवरी होने के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।

डॉक्टर्स के अनुसार प्रेग्नेंट महिला के लिए प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने बहुत ही अहम होते है, ऐसे में गर्भवती महिला को झाड़ू पोछा लगाने से बचना चाहिए। जबकि प्रेगनेंसी में यदि किसी तरह की कॉम्प्लीकेशन्स हैं तो भी गर्भवती महिला को इससे बचना चाहिए। लेकिन यदि गर्भवती महिला स्वस्थ है तो प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में झाड़ू पोछा लगाना गर्भवती महिला के लिए फायदेमंद भी हो सकता है। लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान कोई भी काम करते हुए महिला को इतना ध्यान रखना चाहिए की महिला किसी भी तरह की लापरवाही न करे ताकि गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को किसी भी तरह के नुकसान से बचे रहने में मदद मिल सके। तो आइये अब जानते हैं प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा लगाने से जुडी कुछ बातों के बारे में।

प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा लगाने के फायदे

ऐसा नहीं है की प्रेग्नेंट महिला घर का कोई भी काम नहीं कर सकती है, बल्कि महिला को थोड़ा बहुत काम जरूर करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से गर्भवती महिला को फायदा मिलता है। तो आइये अब जानते हैं प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा लगाने से क्या फायदे मिलते हैं।

एक्टिव रहना

प्रेग्नेंट महिला को प्रेगनेंसी के दौरान अधिक व्यायाम आदि न करने की सलाह दी जाती है। ऐसे में झाड़ू पोछा लगाने से महिला का व्यायाम हो जाता है। जिससे बॉडी को रिलैक्स महसूस हो सकता है, और गर्भवती महिला को एक्टिव रहने में मदद मिलती है, और गर्भवती महिला का प्रेगनेंसी के दौरान एक्टिव रहना महिला को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

फ्लेक्सिबल मसल्स

झाड़ू पोछा लगाने से पेल्विक मसल्स यानी गर्भाशय के आस पास की मसल्स को फ्लेक्सिबल रहने में मदद मिलती है। जिसे गर्भवती महिला को डिलीवरी के दौरान आने वाली परेशानियों को कम करने में मदद मिलती है। और पेल्विक मसल्स के फ्लेक्सिबल होने से महिला की नोर्मल डिलीवरी होने के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।

प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा लगाने के नुकसान

गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान हर कदम पर अपनी सेहत का अच्छे से ध्यान रखना पड़ता है, क्योंकि महिला द्वारा की गई कोई भी गलती शिशु पर नकारात्मक असर डाल सकती है। तो लीजिये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में झाड़ू पोछा लगाने के क्या नुकसान होते हैं।

गर्भपात

गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान महिला को ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए जिससे पेट पर जोर पड़े। ऐसे में महिला को खड़े होकर या बैठकर झाड़ू पोछा लगाने से बचना चाहिए, क्योंकि इसके कारण पेट पर अधिक दबाव पड़ने पर महिला के गर्भपात होने का खतरा बढ़ जाता है।

दर्द व् ब्लीडिंग

झाड़ू पोछा लगाने के कारण गर्भवती महिला के पेट के निचले हिस्से में दर्द आदि की सम्भावना हो सकती है। जिसके कारण महिला को परेशानी हो सकती है, साथ ही कई बार स्पॉटिंग की समस्या का भी खतरा रहता है, ऐसे में झाड़ू पोछा लगाते समय ज्यादा तेजी या ज्यादा जोर नहीं लगाना चाहिए।

कॉम्प्लीकेशन्स होने पर

यदि गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान किसी तरह की कॉम्प्लीकेशन्स होती है तो भी गर्भवती महिला को झाड़ू पोछा न लगाने की सलाह दी जाती है। क्योंकि ऐसा करने के कारण प्रेग्नेंट महिला की दिक्कतें बढ़ सकती है।

गर्भवती महिला को झाड़ू पोछा लगाते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

  • गर्भ में पल रहे शिशु और गर्भवती महिला को इन्फेक्शन से बचे रहने के लिए पोछा के पानी में किसी भी केमिकल युक्त चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • झाड़ू पोछा लगाते समय प्रेग्नेंट महिला को बिल्कुल भी तेजी नहीं करनी चाहिए बल्कि आराम से महिला को काम करना चाहिए।
  • यदि आपको धूल से एलर्जी है तो झाड़ू लगाते समय मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए, या झाड़ू लगाने से बचना चाहिए।
  • अधिक थकावट महसूस होने पर झाड़ू पोछा लगाते हुए रूककर थोड़ा आराम करना चाहिए, क्योंकि थकान का अधिक अनुभव होने पर महिला को परेशानी हो सकती है।
  • ज्यादा ऊँची जगह पर झाड़ने आदि के काम को करने से बचना चाहिए।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिन्हे पढ़ने के बाद आपको यह जानने में आसानी होगी की गर्भवती महिला को झाड़ू पोछा लगाना चाहिए या नहीं। इसके अलावा गर्भवती महिला यदि घर में झाड़ू पोछा आदि का काम करती है तो महिला को घर के किसी सदस्य को आस पास जरूर रखना चाहिए, ताकि यदि कोई परेशानी हो तो आपको संभालने के लिए कोई आपके पास हो। और सबसे जरुरी बात प्रेगनेंसी में किसी भी काम को करने से पहले एक बार डॉक्टर की राय जरूर लेनी चाहिए।