Mom Pregnancy Health Lifestyle

AMH क्या है इसका लेवल बढ़ाने के उपाय

AMH क्या है
0

AMH क्या है, AMH क्या है इसका लेवल बढ़ाने के उपाय, AMH कब करवाते हैं, एंटी-म्युलेरियन हार्मोन टेस्ट क्या है

देर से शादी करने के साथ आज कल कपल फैमिली प्लानिंग के लिए भी थोड़ा समय लेते हैं, इसके साथ तनाव, बदलता लाइफस्टाइल, शारीरिक समस्या, आदि के कारण कई बार महिलाओं को फर्टिलिटी से जुडी समस्या का सामना करना पड़ता है जिसके कारण महिला गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। और फर्टिलटी के लिए हर महिला को अपने ओवेरियन रिज़र्व को समझना बहुत जरुरी है। और इसे जानने के लिए महिलाओं को अपना एंटी-म्युलेरियन हार्मोन टेस्ट यानी की AMH टेस्ट करवाना जरुरी होता है। और इस टेस्ट को करवाने से पहले आपको डॉक्टर के परामर्श को लेना भी जरुरी होता है।

AMH क्या है

एंटी-म्युलेरियन हार्मोन एक हॉर्मोन होता है जो की ओवेरियन फॉलिक में मौजूद सेल्स द्वारा पैदा होता है। और AMH टेस्ट के दौरान खून में एंटी-म्युलेरियन हर्मोन के लेवल की जांच करने के बाद महिला के ओवेरियन रिज़र्व का पता चलता है। और उसके बाद आप जान सकते हैं की महिला का गर्भ क्यों नहीं ठहर रहा है और महिला को गर्भधारण के दौरान कौन सी परेशानी आ रही है। ओवेरियन रिज़र्व किसी भी समय ओवेरियन में मौजूद अंडो का पूल है। ओवेरियन रिज़र्व के कम होने का कारण ओवेरियन में मौजूद अंडो के पूल में जब अंडो की संख्या की कमी आती है, और इसके कारण महिला का गर्भ नहीं ठहर पाता है। ए एम एच हार्मोन का कम लेवल इनफर्टिलिटी को दर्शाता है और बढ़े हुए लेवल पोली सेसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम होने के कारण हो सकता है।

AMH का लेवल बढ़ाने के उपाय

एंटी -म्युलेरियन हॉर्मोन का लेवल उम्र पर निर्भर करता है, जैसे की यदि किसी महिला की उम्र मे बाइस से तीस वर्ष तक होती है, उस दौरान इस हॉर्मोन का लेवल बॉडी में बेहतरीन होता है। लेकिन उम्र के बढ़ने के साथ बॉडी में इस हॉर्मोन के लेवल में कमी आने लगती है। और इस हॉर्मोन के लेवल बढाने के वैसे कोई तरीका नहीं होता है, लेकिन यदि आप फिट हैं तो अधिक उम्र होने के बाद भी कुछ महिलाओं के गर्भ से स्वस्थ शिशु जन्म लेते हैं।

  • महिला का खान पान बेहतर होना चाहिए, जिससे उसके शरीर में पोषक तत्वों की कमी न हो, और वो शारीरिक रूप से तंदरुस्त हो, क्योंकि स्वस्थ महिला का गर्भधारण स्वस्थ तरीके से हो सकता है।
  • तनाव न लें खुश रहें, तनाव के कारण आपके शरीर पर नेगेटिव असर पड़ता है।
  • प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले आहार का महिला को भरपूर सेवन करना जैसे जैसे की अनार, अश्वगंधा, आदि।
  • व्यायाम आदि भी महिला को जरूर करना चाहिए इससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। जिससे प्रजनन अंगो को भी एक्टिव रहने में मदद मिलती है।

तो यह है ए एम एच हार्मोन से जुडी कुछ बातें यदि आप भी यह टेस्ट करवाती है, या आपको भी गर्भधारण से जुडी कोई समस्या आती है। तो इसके लिए सबसे पहले आप अपने डॉक्टर से राय लें उसके बाद उनके परामर्श के अनुसार काम करें।