हिंदी में जानकारी

डकार कब आती है और क्या कारण होते है?

0 12

अधिक डकारे आने के क्या कारण होते है?

अधिक डकारे आने के क्या कारण होते है, Dakar aane ke kya karan hote hai, Burping, Causes of Burping, Dakar aane ke karan, bewajah dakare kab aati hai 

अक्सर खाना खाने के बाद या बहुत अधिक भूखे पेट रहने के कारण हमारे पेट से एक आवाज निकलती है जिसे आप और हम डकार रहते है। कहने को डकार एक सामान्य प्रक्रिया है जिसके मुताबिक जब हम हवा निगल लेते है तो वह उसी रास्ते से बाहर निकलने का प्रयास करती है जिसके कारण डकार आने के दौरान पेट से आवाज आती है।

वैसे तो यह एक सामान्य प्रक्रिया है जो हर किसी के साथ होती है लेकिन अगर यह हद से ज्यादा बढ़ जाए तो इसपर गौर करना आवश्यक है। क्योंकि ज्यादा डकार आने का कारण बहुत सी बीमारियां भी होती है जिनके बारे में आप और हम सामान्य जीवन में पता नहीं लगा सकते है। इसीलिए आज हम आपको अधिक डकारे आना कौन-कौन सी बिमारियों का संकेत है इस बारे में बताने जा रहे है।

डकार क्या है?अधिक डकारे आने के क्या कारण होते है

वास्तव में डकार लेना एक प्राकृतिक क्रिया है जो की सबही व्यक्तियों के साथ होती है। ऐसा माना जाता है की हमारे द्वारा खाया गया भोजन पूरी तरह से हजम होने का डकार एक संकेत होती है।जबकि ऐसा कुछ नहीं है, खाना खाते समय या उसके बाद डकार आने का अर्थ होता है की आपने खाना खाने के दौरान काफी मात्रा में हवा निगल ली है। और जब वो हवा बाहर निकलती है तो हमें डकार आती है।

पेट की गैस को प्राकृतिक रूप से बाहर निकालने का एक तरीका है। और अगर सही समय पर पेट की हवा बाहर नहीं निकले तो पेट से संबंधित परेशानियां हो सकती है। लेकिन बार बार डकारे आना भी किसी बिमारी का संकेत हो सकते है जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे है तो आइये जानते है क्या है वे बीमारियां।

बार-बार डकार आना कौन-सी बिमारियों का संकेत है?

1. एरोफेजिया :

खाना खाते समय हम लोग अक्सर अधिक हवा पेट में निगल लेते है। जिसके बाद लगातार डकारे आने लगती है। इसी स्थिति को एरोफेजिया कहते है। कुछ खाते या पीते समय खाद्य पदार्थ के साथ साथ हवा पेट में चले जाने से अक्सर यह स्थिति पैदा हो जाती है। वैसे तो ये कोई बीमारी नहीं है लेकिन स्वास्थ्य के लिए अधिक डकारे लेना अच्छा नहीं होता। इससे बचने के लिए खाने के छोटे निवाले खाये और हमेशा मुंह बंद करके खाना खाये। साथ ही खाने को धीरे धीरे चबा कर निगले।

2. कब्ज या बदहज़मी :acidity

शोध से पता चला है की जिन लोगों को बहुत डकारें आती है, उनमे से 30% लोग कब्ज से ग्रसित होते है। अगर आपके साथ भी यही समस्या है तो अपने खाने में फाइबर युक्त चीजों को शामिल करें। साथ ही ईसबगोल का भी सेवन करें। इसके अलावा हाजमा के खराब होने की वजह से भी अधिक डकारे आने की समस्या होती है इस स्थिति में डकार के साथ पेट दर्द भी हो सकता है।

3. डिप्रेशन :

ये बात सभी भली भांति जानते है की तनाव बहुत सी बिमारियों का एक कारण होता है। तनाव होने की वजह से कुछ प्रभाव हमारे पेट पर भी पड़ता है। कई शोधों से पता चला है की 65% मामलों में mood swing या तनाव के बढ़ने की वजह से भी अधिक डकारे आने लगती है।

4. गैस्ट्रोसोफेजिअल रिफ्लक्स डिज़ीज़ :सीने के एक तरफ दर्द रहता है

यह एक तरह की बिमारी है जिसमे सीने में जलन होती है और इसके कारण ज्यादा डकारे आती है। इस बीमारी के होने पर कई बार व्यक्ति की आँतों में भी जलन होने लगती है। जिससे खाद्य नली में एसिड बनने लगता है जो सीधे तौर पर हमारे पाचन तंत्र पर प्रभाव डालता है। इससे बचने के लिए अपने खानपान में बदलाव करें और अपनी जीवनशैली को बदलें।

5. इरिटेबल बाउल सिंड्रोम या पेप्टिक अल्सर :

इस समस्या के होने पर व्यक्ति को कब्ज, पेट में दर्द, पेट में मरोड़े और दस्त आदि लगने की समस्याएं हो सकती है। और अधिक डकारे आना इस रोग का सबसे बड़ा कारण होता है। वैसे इस समस्या का कोई पक्का इलाज अभी तक मेडिकल साइंस में उपलब्ध नहीं है लेकिन अगर परहेज किये जाए तो समस्या से बचा जा सकता है। इसके अलावा पेप्टिक अल्सर होने के कारण भी अधिक डकारे आती है। जिसमे पेट की गैस और बैक्टीरिया आपके पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचाते है और परिणामस्वरूप आपको डकारे आती है।

तो ये थी कुछ समस्याएं जिनके कारण अक्सर बार बार डकारे आती है। अगर आपको लगता है की इनमे से कोई भी कारण आपकी डकारों की वजह नहीं है तो हो सकता है समस्या कुछ और ही हो। ऐसे में डॉक्टरी सलाह लेना ही उचित रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!