Ultimate magazine theme for WordPress.

गर्भवती महिला को सूजन की समस्या

0

प्रेगनेंसी में सूजन

माँ बनना जितना खास लम्हा होता है उतना ही प्रेगनेंसी के दौरान महिला को शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन इस बात का इस दौरान ध्यान रखना भी जरुरी होता है की यदि कोई भी परेशानी अधिक हो तो उसे अनदेखा ना करें बल्कि उसके लिए एक बार डॉक्टर से बात करें। तो लीजिये आज हम उन्ही में से एक परेशानी के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसका होना प्रेगनेंसी के दौरान आम बात होती है। और वो है प्रेगनेंसी के दौरान सूजन की समस्या, प्रेगनेंसी के समय महिला के हाथ, पैर, उँगलियों, टखनों, स्तन, मुँह आदि पर सूजन की समस्या हो सकती है। और यह कोई शारीरिक बिमारी नहीं होती है लेकिन यदि महिला को बहुत अधिक सूजन हो और साथ दर्द भी महसूस हो तो एक बार डॉक्टर से जांच जरूर करवानी चाहिए।

प्रेगनेंसी में सूजन होने के कारण

गर्भवस्था में महिला को सूजन की समस्या होने का कोई एक कारण नहीं होता है, बल्कि इसके कई कारण हो सकते हैं जिसके कारण महिला को सूजन की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी के दौरान सूजन होने के कौन कौन से कारण हो सकते हैं।

हार्मोनल बदलाव

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं। जिसके कारण बॉडी में सोडियम की मात्रा बढ़ सकती है, और बॉडी के कुछ हिस्सों में थोड़ी बहुत सूजन हो सकती है।

गर्भाशय का आकार

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के गर्भाशय का आकार बढ़ता है जिसके कारण पेल्विक एरिया से नीचे की तरफ दबाव बढ़ने लगता है। और ऐसी स्थिति में बॉडी में हदय से पैरों तक तक तो ब्लड फ्लो अच्छे से होता है, लेकिन पैरों से हदय तक ब्लड फ्लो अच्छे से होने में दिक्कत हो सकती है, और बॉडी में ब्लड फ्लो यदि बेहतर तरीके से नहीं होता है तो महिला को सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

दवाई

जो महिलाएं तनाव से जुडी, ब्लड प्रैशर से जुडी दवाइयों का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान करती हैं उन महिलाओं को भी प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी पार्ट्स में सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

शारीरिक समस्या

जिन गर्भवती महिला को किडनी से जुडी समस्या, लिवर से जुडी परेशानी, थायरॉयड की समस्या प्रेगनेंसी के दौरान होती है। उन महिलाओं को भी प्रेगनेंसी के दौरान सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

एक ही स्थान पर खड़े रहना

गर्भावस्था में एक ही जगह पर खड़े रहने के कारण भी महिला को पैरों में सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही प्रेग्नेंट महिला को लगातार बहुत देर तक भी नहीं चलना चाहिए, क्योंकि इसके कारण भी पैरों में सूजन की परेशानी हो सकती है।

नमक

नमक का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान महिला को पर्याप्त मात्रा में ही करना चाहिए। क्योंकि नमक का सेवन अधिक मात्रा में करने से गर्भवती महिला को सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

खून की कमी

जिन गर्भवती महिलाओं के शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा में कमी पाई जाती है उन गर्भवती महिलाओं को भी प्रेगनेंसी के दौरान सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

प्रेगनेंसी में सूजन की समस्या से बचने के टिप्स

  • ठंडी चीजों का सेवन करने से बचें।
  • नमक का सेवन पर्याप्त मात्रा में ही करें।
  • ज्यादा देर तक न तो एक जगह खड़े रहें, न ही पैर लटका कर बैठे रहें।
  • किसी भी शारीरिक परेशानी के होने पर एक बार डॉक्टर से बात करें।
  • अपने आप किसी भी दवाई का सेवन न करें।
  • पानी की कमी शरीर में न होने दें, तरल पदार्थों का भरपूर मात्रा में सेवन करें।
  • प्रेगनेंसी के दौरान अपने स्वास्थ्य का अच्छे से ध्यान रखें और पोषक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करें।
  • यदि सूजन के साथ दर्द महसूस हो या स्किन लाल पड़ने लगे तो एक बार डॉक्टर से जरूर मिलें।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से गर्भवती महिला को सूजन की समस्या हो सकती है। सूजन के आलावा प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी शारीरिक परेशानी के अधिक बढ़ने पर इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। और इसका समय से उपचार करना चाहिए ताकि गर्भवती महिला को स्वस्थ रहने और गर्भ में पल रहे शिशु के बेहतर विकास में किसी तरह की कोई दिक्कत न आए।