इन 8 कारणों की वजह से महिला नहीं बन पाती माँ

इन 8 कारणों की वजह से महिला नहीं बन पाती माँ
0

इन 8 कारणों की वजह से महिला नहीं बन पाती माँ, बांझपन के कारण, महिला के गर्भवती होने में कौन कौन सी परेशानियां आती है, प्रेगनेंसी न होने के कारण, गर्भधारण न होने के कारण, महिला के माँ न बन पाने के कारण

माँ बनना किसी भी महिला के लिए उसकी जिंदगी का सबसे अलग, प्यारा और खास अनुभव होता है। और भगवान द्वारा केवल महिला को ही गर्भ में नौ महीने तक शिशु को रखने के प्यारे अहसास के अनुभव का हक़ दिया है। जिससे महिला नौ महीने बहुत से उतार चढ़ाव के साथ अपनी जिंदगी में से एक और जिंदगी को जन्म देती है। लेकिन कई बार माँ बनने में महिला को समस्या आती है, प्लानिंग करने के बाद भी गर्भ ठहर नहीं पाता है। ऐसे में इनफर्टिलिटी की समस्या किसी भी महिला को परेशान कर सकती है, लेकिन इससे परेशान होने की बजाय महिला को गर्भधारण न होने के कारण को पता करना चाहिए। क्योंकि महिला में इन्फर्टिलटी का कोई एक कारण नहीं होता है बल्कि कई कारण होते है। तो आइये आज हम आपको कुछ ऐसे कारण बताने जा रहे हैं जिनकी वजह से महिला के गर्भ को ठहरने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

अनियमित पीरियड्स

पीरियड्स का नियमित होना प्रेगनेंसी के लिए बहुत जरुरी होता है। क्योंकि यदि आपको पीरियड्स समय से बहुत पहले या बहुत बाद में आते हैं, ब्लीडिंग बहुत ज्यादा होती है, सात दिन से ज्यादा आपको पीरियड्स रहते हैं, तो इन्हे अनियमित पीरियड्स कहा जाता है। जिसके कारण ओवुलेशन के समय का पता लगाना मुश्किल होने के साथ गर्भधारण में भी परेशानी हो सकती है क्योंकि ऐसा होने के कारण बॉडी में हार्मोनल असंतुलन की समस्या हो जाती है। साथ ही यदि आपको अनियमित पीरियड्स रहते हैं तो इसके लिए एक बार डॉक्टर से बात जरूर करनी चाहिए।

ट्यूबल रोग के कारण

बहुत सी महिलाओं में माँ न बनने का कारण फलोपियन ट्यूब का बंद होना या खराब होना हो सकता है। क्योंकि गर्भधारण के लिए जरुरी निषेचन की प्रक्रिया फैलोपियन ट्यूब में ही होती है। और यदि फैलोपियन ट्यूब ही बंद होती है तो इसके कारण महिला का गर्भ नहीं ठहरता है।

गर्भाशय से जुडी समस्या होने के कारण

गर्भाशय में गाँठ होने के कारण भी महिला का गर्भ नहीं ठहर पाता है। इसका कारण जब यूटेरस में मांसपेशियों का अतिरिक्त विकास होने लगता है, तो वहां इन मांसपेशियों के इकट्ठे होने के कारण गांड बनने लगती है, जिसे की फाइब्रॉयड भी कहा जाता है। और यदि कोई महिला फाइब्रॉयड से ग्रसित होती है तो इसके कारण पीरियड्स के दौरान बहुत ज्यादा ब्लीडिंग, सम्बन्ध बनाते समय दर्द, पीरियड्स खत्म होने के बाद भी रक्त स्त्राव का होना, आदि हो सकता है, जिसके कारण निषेचन की क्रिया होने में समस्या होती है। और यदि निषेचन की प्रक्रिया न हो तो महिला को बांझपन जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

थायरॉयड होने के कारण

यदि कोई महिला थायरॉयड की समस्या से ग्रसित होती है तो इसके कारण भी महिला को गर्भ न ठहरने जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि यदि थायरॉयड ग्रंथि सही से काम नहीं करती है या ओवरएक्टिव हो जाती है तो इसके कारण प्रजनन क्षमता पर असर पड़ता है और महिला को गर्भधारण से जुडी समस्या हो सकती है।

वजन

प्रेगनेंसी के लिए वजन का सही होना भी बहुत जरुरी होता है क्योंकि यदि कोई महिला मोटापे की समस्या से ग्रसित है, तो भी महिला को गर्भधारण में समस्या हो सकती है। और यदि किसी महिला के वजन में कमी है तो भी महिला को गर्भधारण में समस्या आ सकती है। ऐसे में जरुरी होता है की महिला अपने वजन को कण्ट्रोल में रखे यदि वजन ज्यादा है तो उसे सही करे, और यदि कम है तो अपने वजन को बढ़ाएं।

बिमारी के कारण

यदि कोई महिला किसी शारीरिक बिमारी जैसे की तनाव, हाई ब्लड प्रैशर, डाइबिटीज़, टी बी, पॉलिसिस्‍टमिक ओवेरियन डिजीज आदि से ग्रसित है, तो इसके कारण भी ओवुलेशन पर बुरा असर पड़ता है जिसके कारण महिला को बांझपन जैसी समस्या हो सकती है। ऐसे में ऐसी कोई भी समस्या होने पर महिला को जल्दी से जल्दी अपना इलाज करवाना चाहिए।

गलत आदतों के कारण

शराब, धूम्रपान, ड्रग्स, स्‍टेरॉयड के अधिक इस्‍तेमाल करने से शुक्राणु की गुणवत्‍ता और महिला को सेहत दोनों प्रभावित होती है। धूम्रपान करने से जहां शुक्राणु की संख्या में कमी होती है वहीं दूसरी तरफ शराब के सेवन से टेस्‍टोस्‍टेरॉन हार्मोन का उत्‍पादन कम होता है। साथ ही एंटीबॉयटिक दवाइयों का अधिक इस्‍तेमाल करने के कारण भी बांझपन की समस्‍या बढ़ रही है, ऐसे में गर्भवती होने के लिए जरुरी है की महिला को इन गलत आदतों का त्याग करना चाहिए।

वातावरण और खान पान के कारण भी आ सकती है माँ बनने में समस्या

गलत जीवनशैली और खानपान में अनियमितता के कारण भी इं‍फर्टिलिटी पर बुरा असर पड़ता है और आज कल इसके बहुत से मामले सामने आ रहे हैं। प्रदूषण, टॉक्सिन, सेहत के प्रति लापरवाहीकरने के कारण इन्फर्टिलटी की समस्या बढ़ती जा रही है। फास्‍ट फूड और जंक फूड खाने में मौजूद पेस्‍टीसाइड से बॉडी में हार्मोनल असंतुलन की समस्या उत्पन्न होती है जिसके कारण महिला को माँ बनने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में यदि आप गर्भवती होना चाहती है तो इसके लिए आपको अपनी दिनचर्या और जीवनशैली को बेहतर करना बहुत जरुरी होता है।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से महिला को प्रेगनेंसी से जुडी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही उम्र का अधिक होना या बहुत कम होना भी महिला की प्रेगनेंसी में समस्या खड़ी कर सकती है। ऐसे में महिला को इन सब बातों का ध्यान रखना चाहिए, और इस समस्या से निजात पाने के लिए महिला और पुरुष दोनों को ही अपनी अच्छे से जाँच करवानी चाहिए।