Ultimate magazine theme for WordPress.

स्ट्रेचमार्क्स से कैसे बचें? डिलीवरी से पहले और बाद में क्या करें

0

स्ट्रेचमार्क्स से कैसे बचें डिलीवरी से पहले और बाद में क्या करें, डिलीवरी से पहले स्ट्रेचमार्क्स से बचने के टिप्स, डिलीवरी के बाद स्ट्रेचमार्क्स के लिए क्या करें, स्ट्रेचमार्क्स से कैसे बचें, स्ट्रेचमार्क्स ऐसे हटाएँ

प्रेगनेंसी के दौरान महिला का वजन बढ़ता है, जिसके कारण स्किन में खिंचाव होना आम बात होती है। और यह खिंचाव त्वचा की केवल ऊपरी परत में ही नहीं बल्कि अंदरूनी परत में भी आता है, जिसके कारण आपको स्किन पर भूरे रंग की लाइन्स दिखाई देने लगती हैं जिन्हे स्ट्रेचमार्क्स कहा जाता है। यह ब्रेस्ट, पेट, पीठ, जांघो, बाजू, कूल्हों आदि पर हो सकते हैं, और जैसे जैसे वजन बढ़ता है यह निशान भी बढ़ सकते हैं।

साथ ही यह काफी भद्दे भी लगते हैं, ऐसे में डिलीवरी के बाद इनके पेट पर होने के कारण महिलाएं साडी, अपनी पसंदीदा ड्रेस आदि पहनने से बचने लगती है। लेकिन क्या आप जानते हैं की आप इस समस्या का समाधान कर सकते है, और यदि आप चाहे तो इस समस्या से बच भी सकते हैं। और आप इससे बचने के लिए डिलीवरी के बाद ही नहीं बल्कि पहले भी कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं, तो आइये जानते हैं की वो कौन से टिप्स हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान स्ट्रेचमार्क्स से बचने के टिप्स

गर्भवस्था के दौरान जैसे जैसे पेट का आकार बढ़ने लगता है वैसे वैसे स्ट्रेचमार्क्स की समस्या हो सकती है। ऐसे में यदि आप इस परेशानी से बचना चाहती है, तो आप प्रेगनेंसी के दौरान ही कुछ खास टिप्स का इस्तेमाल कर सकती है।

स्किन की नमी को बरकरार रखें

स्किन की कोमल को बरकरार रखने के लिए उसे पोषण देना बहुत जरुरी होता है। और यदि आप प्रेगनेंसी के दौरान तेल का इस्तेमाल मसाज करने के लिए करती हैं, जैसे की नारियल, विटामिन इ, जैतून आदि का तेल। तो इससे आपकी स्किन को पोषण मिलता है जिससे त्वचा में कोलेजन को बरकरार रहने में मदद मिलती है। और आपको इस समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है, लेकिन ध्यान रखें की मसाज ज्यादा तेजी से न करें, और न ही पेट पर किसी तरह का दबाव डालें। इसके अलावा आप मॉइस्चराइजर, शिया बटर, कोकोआ बटर आदि का इस्तेमाल भी कर सकती है यह भी काफी फायदेमंद होता है।

हाइड्रेट रहें

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में पानी की मात्रा का भरपूर होना बहुत जरुरी होता है, यह न केवल आपको ऊर्जा से भरपूर रखने में मदद करता है। बल्कि इससे स्किन को हाइड्रेट रहने में मदद मिलती है, स्किन की कोमलता बरकरार रखता है, साथ ही शरीर में मौजूद विषैले पदार्थो को भी बाहर निकालने में मदद मिलती है। यदि आप प्रेगनेंसी के दौरान पानी का भरपूर सेवन करती है तो इससे भी आपको इस परेशानी से बचाव करने में मदद मिलती है।

वजन को नियंत्रित रखें

प्रेगनेंसी के दौरान वजन का बढ़ना आम बात होती है, लेकिन वजन का ज्यादा तेजी से बढ़ना भी स्ट्रेचमार्क्स की समस्या को बढ़ा सकता है। इसीलिए प्रेगनेंसी के दौरान अपने आहार को एक ही बार में लेने की बजाय थोड़े थोड़े समय के बाद लें, ताकि भोजन को अच्छे से पचने में मदद मिल सके। ज्यादा मीठे का सेवन न करें, पानी की कमी न होने, ऐसा करने से गर्भवती महिला का वजन नियंत्रित रहता है जिससे स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है।

खुजली न करें

पेट पर कई बार खुजली का होना प्रेगनेंसी के दौरान आम बात होती है, लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की आप प्रेगनेंसी के दौरान स्किन पर खुजली न करें। इसके कारण त्वचा पर निशान पड़ सकते हैं जिसके कारण आपको स्ट्रेचमार्क्स की समस्या हो सकती है, और खुजली होने पर क्रीम आदि लगाएं इससे आपको आराम मिलेगा।

पोषणयुक्त आहार का सेवन करें

प्रेगनेंसी में पोषणयुक्त आहार का सेवन करने से गर्भवती महिला और शिशु दोनों को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। साथ ही इससे आपकी स्किन को भी भरपूर पोषण मिलता है जिससे प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है।

डिलीवरी के बाद स्ट्रेचमार्क्स से बचने के टिप्स

यदि आपको प्रेगनेंसी के बाद स्ट्रेचमार्क्स की समस्या हो गई है। और आप इससे निजात पाना चाहते हैं तो ऐसे में इस समस्या से बचने के लिए आप कुछ टिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं, तो आइये जानते हैं की वो टिप्स कौन से हैं। जैतून के तेल में भी पानी और सिरके को बराबर मात्रा में मिलाकर स्ट्रेचमार्क्स पर लगाने से आपको फायदा मिलता है।

अंडे का सफ़ेद भाग

प्रोटीन से भरपूर अंडे के सफ़ेद हिस्से का इस्तेमाल करने से आपको स्किन पर पड़े निशान आदि को दूर करने में मदद मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए आप दो अंडे को फोड़ लें, उसके बाद उसका सफ़ेद हिस्सा अलग कर लें, और उसे अच्छे से अपने स्ट्रेचमार्क्स पर लगाकर सूखने के लिए छोड़ दें, सूखने के बाद इसे साफ़ पानी से धो दें और इसे सूखा दे, और उसके बाद स्किन पर किसी क्रीम या मॉइस्चराइजर को लगाएं।

निम्बू का रस

स्किन पर मृत कोशिकाओं के जमाव को खत्म करने के साथ स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात दिलाने में के लिए भी निम्बू का रस बहुत फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप निम्बू का रस एक कटोरी में निकाल लें और उसे रुई की मदद से स्ट्रेचमार्क्स पर लगाएं। जब आपकी स्किन इसे अच्छे से सोख लें, उसके बाद गुनगुने पानी का इस्तेमाल करके इसे साफ़ कर लें।

तेल से करें मसाज

नियमित रूप से स्ट्रेचमार्क्स पर नारियल, बादाम, अरंडी, जैतून आदि के तेल का इस्तेमाल करके मसाज करें।दस मिनट तक रोजाना ऐसा करें, आपको जरूर फायदा मिलेगा, इस समस्या से निजात पाने के लिए नारियल तेल सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है।

एलोवेरा और कॉफ़ी

तीन से चार चम्मच एलोवेरा जैल में थोड़ी सी कॉफ़ी मिलाएं, उसके बाद इसे अच्छे से मिक्स करें। अब इस पेस्ट को अपने स्ट्रेचमार्क्स पर लगाकर चार से पांच मिनट तक मसाज करें। उसके बाद इसे सूखने के लिए छोड़ दें, सूखने के बाद इसे साफ़ पानी से धो लें।

विटामिन इ का तेल

विटामिन इ के तेल में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट स्किन में मौजूद कोलेजन को नष्ट होने से बचाते हैं, जिससे स्किन को पोषण भी मिलता है। और विटामिन इ का तेल स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात पाने का एक असरदार उपाय है। आप इसके लिए अपने हाथों पर विटामिन इ का तेल लगाकर अच्छे से स्ट्रेचमार्क्स पर हल्के हाथों से पंद्रह से बीस मिनट तक मसाज करें। आप नियमित इस उपाय को करें आपको जरूर फायदा मिलेगा।

आलू

आलू एक ऐसा आहार है जो आसानी से हर घर में मिल जाता है, और इसमें मौजूद पोषक तत्व स्ट्रेचमार्क्स जैसी समस्या से निजात दिलाने में आपकी मदद करते हैं। इसके इस्तेमाल के लिए आप आलू की स्लाइसेस काटकर अच्छे से अपने स्ट्रेचमार्क्स पर लगाएं। आप चाहे तो आलू के रस का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। जैसे ही आपकी स्किन आलू के रस को सोख लेती है, उसके बाद आप इसे साफ़ कर दें, और मॉइस्चराइजर को अपनी स्किन पर लगाएं।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका इस्तेमाल आप प्रेगनेंसी से पहले या बाद में करके स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात पा सकते हैं। साथ ही आपको स्ट्रेचमार्क्स की समस्या न हो और आपकी स्किन को प्रेगनेंसी के दौरान पोषण मिले, इसके लिए आप प्रेगनेंसी के दौरान भरपूर पानी का सेवन करें, व् अपने आहार में भरपूर पोषक तत्वों को शामिल करें।