Lifestyle Blog India
Uncategorized

आयुर्वेद के अनुसार प्रेगनेंसी में कब और कितना घी खाना सेफ होता है?

Ayurved ke anusaar pregnancy me ghee

पोषक तत्वों से भरपूर घी का सेवन भारतीय व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। और आयुर्वेद के अनुसार घी का इस्तेमाल करने से केवल खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ता है। बल्कि घी का सेवन करने से स्वास्थ्य सम्बन्धी बहुत से फायदे भी मिलते हैं। इसीलिए बड़े बूढ़े बच्चे सभी को रोजाना घी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

साथ ही घी का सेवन सिमित मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि जरुरत से ज्यादा कोई भी चीज सेहत को फायदे पहुंचाने की जगह नुकसान पहुंचा सकती है। और जब बता गर्भवती महिला को हो तो हर जो भी खाद्य पदार्थ आप खा रहे हैं उसकी पूरी जानकारी होना बहुत जरुरी होता है। आज इस आर्टिकल में हम प्रेगनेंसी के दौरान घी का सेवन करने के बारे में जानेंगे।

आयुर्वेद के अनुसार गर्भावस्था के दौरान घी का सेवन करना चाहिए या नहीं?

घी का सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं लेकिन प्रेगनेंसी में कुछ भी खाने से पहले यह जनन्ना जरुरी होता है की आप जो खा रहे हैं वो माँ और बच्चे के लिए सेफ है या नहीं? और यदि सेफ है तो महिला को कब और कितनी मात्रा में उसका सेवन करना चाहिए। ताकि गर्भवती महिला और शिशु दोनों को किसी भी तरह की दिक्कत नहीं हो।

READ  प्रेगनेंसी में सीने में जलन होने से शिशु को क्या नुकसान होता है?

और आयुर्वेद के अनुसार घी का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान बहुत फायदेमंद होता है। घी का सेवन यदि प्रेग्नेंट महिला करती है तो इससे माँ और बच्चे दोनों को फायदे मिलते हैं। इसीलिए यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो आप घी का सेवन कर सकती है। तो आइये अब घी के सेवन से जुडी जानकारी के बारे में आर्टिकल में आगे विस्तार से जानते हैं।

घी में कौन कौन से पोषक तत्व मौजूद होते हैं?

घी में विटामिन्स, एंटी ऑक्सीडेंट्स, फैट आदि भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो गर्भवती महिला को फिट रहने और गर्भ में पल रहे शिशु के बेहतर विकास के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

गर्भावस्था में घी का सेवन करने के फायदे

प्रेगनेंसी के दौरान यदि गर्भवती महिला घी का सेवन करती है तो इससे प्रेग्नेंट महिला को बहुत से स्वास्थ्य सम्बन्धी फायदे मिलते हैं। आइये अब उन फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

पेट से जुडी समस्याओं से मिलता है निजात

गर्भावस्था के समय शरीर में हार्मोनल बदलाव हो रहे होते हैं जिसके कारण शरीर की क्रियाओं पर असर पड़ सकता है। जैसे की महिला की पाचन क्रिया धीमी गति से काम करती है जिसकी वजह से महिला को कब्ज़, अपच, जैसी परेशानियां भी हो सकती है। ऐसे में यदि गर्भवती महिला घी का सेवन करती है तो इससे पाचन को सुधारने में मदद मिलती है जिससे खाना आसानी से हज़म होता है। और पेट से जुडी परेशानी से गर्भवती महिला को बचे रहने में मदद मिलती है।

READ  प्रेगनेंसी में विटामिन-ए क्यों जरुरी होता है और इसके क्या क्या फायदे होते हैं?

वजन रहता है नियंत्रित

आज तक आपने यही सुना होगा की वजन घटाना है तो घी का सेवन नहीं करें, जो की गलत होता है। बल्कि घी का सेवन करने से मेटाबोलिज्म बेहतर होता है, शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। जिससे प्रेगनेंसी के दौरान महिला का वजन सही रहता है।

इम्युनिटी स्ट्रांग होती है

गर्भावस्था के दौरान बिमारियों व् संक्रमण से बचाव के लिए जरुरी होता है की महिला की इम्युनिटी स्ट्रांग हो। लेकिन बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिला की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को अपनी इम्युनिटी को स्ट्रांग करने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिससे प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो। और घी में एंटी ऑक्सीडेंट्स भरपूर होते हैं जो प्रेग्नेंट महिला की पोषक तत्वों को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाते हैं। जिससे प्रेग्नेंट महिला की इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसीलिए प्रेग्नेंट महिला को घी का सेवन जरूर करना चाहिए।

आँखों के लिए है बेहतर

गर्भावस्था के दौरान घी का सेवन करने से गर्भवती महिला की आँखों की रौशनी बेहतर होने के साथ गर्भ में पल रहे बच्चे की आँखों का बेहतर विकास होने में भी मदद मिलती है। क्योंकि घी में विटामिन ए मौजूद होता है जो आँखों के लिए बेहतर होता है।

हदय रहता है स्वस्थ

घी में एंटी इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टीज होती है जो हदय को स्वस्थ रखने और बॉडी में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मदद करते है। और बॉडी में कोलेस्ट्रॉल के नियंत्रित रहने से गर्भवती महिला को फिट रहने में मदद मिलती है।

READ  Minimal Living | 7 Ways To Adopt A Minimalist Living Space

शिशु का होता है बेहतर विकास

घी में मौजूद पोषक तत्वों का फायदा केवल प्रेग्नेंट महिला को ही नहीं मिलता है बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु के लिए भी घी का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

ऊर्जा मिलती है

घी का सेवन करने से गर्भवती महिला की हड्डियों को पोषण मिलता है, शरीर में पोषक तत्वों की मात्रा भरपूर रहती है जिससे गर्भवती महिला को ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद मिलती है।

तनाव से राहत

गर्भावस्था के दौरान घी का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को तनाव से राहत मिलने के साथ मूड को भी बेहतर रहने में मदद मिलती है। जो की माँ और बच्चे दोनों की सेहत के लिए अच्छा होता है।

गर्भावस्था के दौरान घी का सेवन कितना करना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को एक दिन में एक से दो चम्मच घी का सेवन कर सकती है। लेकिन ध्यान रखें की घी को सब्ज़ी में डालकर, रोटी पर लगाकर करें।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान घी का सेवन से जुड़े टिप्स, साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें की जिन प्रेग्नेंट महिलाओं का वजन ज्यादा होता है और हाई ब्लड प्रैशर की समस्या होती है। उन्हें घी का सेवन नहीं करना चाहिए साथ ही इसके लिए एक बार डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।

Related posts

गर्भावस्था में दवाई खाने के तुरंत बाद यह चीजें नहीं खाएं?

Suruchi Chawla

प्रेग्नेंट महिला को पहली तिमाही में यह 10 फूड जरूर खाने चाहिए?

Suruchi Chawla

आईवीएफ ट्रीटमेंट के दौरान क्या खाने से बच्चा हेल्दी होगा?

Suruchi Chawla

Leave a Comment