गर्भावस्था में ऐंठन होने के कारण व् उपाय

गर्भावस्था के दौरान महिला को बहुत सी शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिसमे से ऐंठन की समस्या होना बहुत ही आम बात होती है। प्रेगनेंसी के दौरान पेट, पैरों में ऐंठन होने के कारण गर्भवती महिला सबसे ज्यादा परेशान रहती है। क्योंकि गर्भाशय के बढ़ते आकार के कारण पेट की मांसपेशियों में खिंचाव आता है और वजन बढ़ने के कारण पैरों पर अधिक दबाव पड़ता है जिसके कारण पैरों में ऐंठन की समस्या होती है। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी में ऐंठन होने के क्या कारण होते हैं और गर्भवती महिला किस तरह इस परेशानी से निजात पा सकती है इस बारे में बताने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी में पैरों में ऐंठन होने के कारण

  • वजन बढ़ने के कारण।
  • गर्भ में एक से ज्यादा शिशु होने के कारण पैरों पर अधिक दबाव पड़ता है सतह ही पेट व् पीठ की मांसपशियों में खिचाव ज्यादा होता है जिसकी वजह से ऐंठन की समस्या होती है।
  • भारी वजन उठाने के कारण।
  • बहुत देर तक एक ही पोजीशन में बैठे रहने के कारण।
  • गर्भाशय का आकार बढ़ने के कारण पेट के निचले हिस्से पर दबाव अधिक बढ़ जाता है जिसकी वजह से ऐंठन की समस्या हो जाती है।
  • बॉडी में पोषक तत्वों की कमी होने के कारण।
  • बॉडी में तरल पदार्थों का जमाव होने के कारण सूजन व् ऐंठन की समस्या होती है।
  • बहुत देर तक एक ही पोजीशन में बैठने के कारण

गर्भावस्था में ऐंठन की समस्या से निजात पाने के टिप्स

यदि प्रेग्नेंट महिला ऐंठन की समस्या से परेशान है तो इस परेशानी से निजात पाने के लिए कुछ आसान तरीको का इस्तेमाल कर सकती है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की गर्भवती महिला को ऐंठन से निजता पाने के लिए क्या करना चाहिए।

खान पान का ध्यान रखें

गर्भवती महिला बॉडी में पोषक तत्वों की कमी न होने दें, अपनी डाइट का अच्छे से ध्यान रखें, समय से खाए, ज्यादा नमक का सेवन न करें, पानी का भरपूर सेवन करें, आदि। यदि गर्भवती महिला अपने खान पान से जुड़े इन टिप्स का ध्यान रखती है तो ऐसा करने से पोषक तत्वों की कमी के कारण होने वाली ऐंठन की समस्या से प्रेग्नेंट महिला को बचे रहने में मदद मिलती है।

आराम करें

गर्भावस्था के दौरान शरीर को आराम की ज्यादा जरुरत होती है, ऐसे में यदि महिला भरपूर आराम नहीं करती है तो इस कारण भी मांसपेशियों में जकड़न बढ़ती है जिससे ऐंठन की समस्या होती है। ऐसे में ऐंठन की समस्या से बचने के लिए महिला को भरपूर आराम करना चाहिए। साथ ही गर्भवती महिला को बहुत देर तक एक ही पोजीशन में नहीं बैठना चाहिए।

मालिश करें

गुनगुने तेल से ऐंठन वाली जगह की मसाज करें, ऐसा करने से भी मांसपेशियों को आराम मिलता है और बॉडी में ब्लड फ्लो अच्छे से होता है। ऐसा करने से ऐंठन से आराम मिलता है, लेकिन ध्यान रखें की पेट पर हलके हाथों से मालिश करें बिल्कुल भी दबाव न डालें।

व्यायाम व् योगासन

ऐंठन की समस्या से निजात पाने के लिए गर्भवती महिला को हल्का फुल्का व्यायाम भी जरूर करना चाहिए। क्योंकि व्यायाम करने से मांसपेशियों को आराम मिलता है साथ ही बॉडी में ब्लड फ्लो अच्छे से होता है, मानसिक रूप भी महिला रिलैक्स रहती है। जिससे ऐंठन से बचे रहने में गर्भवती महिला को मदद मिलती है।

गुनगुने पानी से सिकाई

यदि प्रेग्नेंट महिला पैरों में ऐंठन की समस्या से ज्यादा परेशान है तो गुनगुने पानी में नमक डालकर पैरों की सिकाई करें। ऐसा करने से प्रेग्नेंट महिला को पैरों में ऐंठन से बचे रहने में मदद मिलती है।

तो यह हैं गर्भवती महिला को ऐठन की समस्या होने के कारण व् इस परेशानी से बचाव के लिए कुछ आसान टिप्स, यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आप भी इन टिप्स का ध्यान रखें साथ ही ऐंठन की समस्या अधिक होने पर इसे अनदेखा न करें और तुरंत डॉक्टर से मिलें।