पीलिया के रोगी को क्या-क्या खाना चाहिए पीलिया ठीक होने के लिए

0

पीलिया में क्या खाएं, पीलिया का इलाज, पीलिया क्यों होता है, पीलिया के लिए आहार, पीलिया होने का कारण, पीलिया के लक्षण, पीलिये में परहेज, Jaundice 

Jaundice यानि पीलिया या अन्य कोई बिमारी हो उसमे यदि आप अपने उपचार के साथ अपने आहार का भी अच्छे से ध्यान रखते हैं। तो ऐसा करने से आपको जल्दी स्वस्थ होने में मदद मिलती है। पीलिया भी एक ऐसा ही रोग है जिसमे यदि आप अपने आहार का अच्छे से ध्यान रखते हैं तो आपको जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है। पीलिया एक ऐसी समस्या होती है जिसमे व्यक्ति के नाख़ून, मुँह, आँखे, हाथ, अदि अंग पीले पड़ने लगते हैं। इसके अलावा कमजोरी, सर दर्द, चक्कर आना, यूरिन का रंग पीला होना, कब्ज़ आदि होने के लक्षण भी दिखाई देते हैं। तो आइये आज हम आपको बताते है की शरीर में पीलिया क्यों होता है और आपको पीलिया की समस्या से जल्द राहत पाने के लिए कौन कौन से आहार का सेवन करना चाहिए।

पीलिया क्यों होता है

हमारे शरीर में जब रक्त में जब बिलिरुबिन की मात्रा 0 मिलीग्राम प्रति 100 मिली लीटर से अधिक हो जाती है तो इसके कारण स्किन, नाखून, आंखें व यूरिन पीले रंग का आने लगता है। साथ ही आपके शरीर में यूरिन का सामान्य रंग भी इसी के कारण होता है और शरीर में इन्ही लक्षणों के होने को पीलिया रोग के नाम से जाना जाता है। इस रोग के होने का कारण लिवर की खराबी से पैदा होता है। ऐसा तब होता है जब लिवर का पित्त आतों में न पहुंचकर सीधे ब्लड में मिल जाता है, तो सारे शरीर में पीलापन छाने लगता है। जिसके कारण आपको पीलिया रोग का सामना करना पड़ता है।

पीलिया को ठीक करने के लिए आहार

पीलिया एक ऐसी समस्या है जिससे निजात पाने के लिए आपको अपने आहार का भी ध्यान रखना चाहिए। तो आज हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका सेवन यदि आप पीलिया में करते हैं तो आपको इस परेशानी से जल्द राहत पाने में मदद मिलती है।

आंवला

आंवले में मौजूद विटामिन सी आपको पीलिया में बहुत फायदेमंद होता है। इसके सेवन के लिए आप दो चम्मच आंवले के रस को गन्ने के रस में मिलाकर उसका सेवन करते हैं। या फिर एक चम्मच आंवले के चूर्ण को छाछ के साथ लेते हैं तो ऐसा करने से आपको लिवर की कोशिकाओं की सफाई करने में मदद मिलती है। जिससे आपको पीलिया में राहत मिलती है इसके अलावा आप चाहे तो कच्चे आंवले का सेवन भी कर सकते है।

मूली का रस

मूली का रस पीने से भी पीलिया की समस्या को खत्म करने में मदद मिलती है। इसके सेवन से रक्त और लिवर से बाइलरुबिन की मात्रा को बाहर निकालने में मदद मिलती है। हो सकता है की मूली का रस थोड़ा सा कड़वा लगे तो इसके लिए आप मूली के रस में चीनी न नमक डालकर उसका सेवन कर सकते हैं। और आपको दिन में दो से तीन गिलास मूली के रस का सेवन जरूर करना चाहिए।

धनिये के बीज का पानी

धनिये के बीजों को रात को पानी में भिगोकर रख दें, और सुबह उठकर इस पानी को छानकर खाली पेट इसका सेवन करें। ऐसा नियमित करें जब तक आपको पीलिया से आराम नहीं मिलता है। इस पानी का सेवन करने से आपके लिवर में मौजूद अशुध्दियों को साफ़ करने में मदद मिलती है। जिससे आपको पीलिये से जल्दी आराम पाने में मदद मिलती है।

निम्बू

पीलिया की समस्या होने पर दिन में तीन से चार बार पानी में निम्बू मिलाकर उसका सेवन जरूर करना चाहिए। ऐसा करने से भी आपको पीलिया से राहत मिलती है क्योंकि निम्बू में मौजूद विटामिन सी आपकी इस समस्या का समाधान करने में आपकी मदद करता है। और खासकर सुबह उठकर गुनगुने पानी में निम्बू का रस मिलाकर उसका सेवन जरूर करना चाहिए।

नीम का रस

नीम को भी एक आयुर्वेदिक औषधि की तरह इस्तेमाल किया जाता है। यदि पीलिया का रोगी दिन में दो से तीन बार तीन से चार चम्मच नीम का रस पीता हैं, तो इससे ब्लड को साफ़ होने के साथ लिवर को साफ होने में भी मदद मिलती है। जिससे आपको पीलिया से राहत पाने में मदद मिलती है।

तुलसी

तुलसी की पत्तियां भी पीलिया रोगी के लिए किसी दवाई से कम नहीं होती है। ऐसे में यदि आप नियमित सुबह उठकर खाली पेट तीन से चार तुलसी की पत्तियों का सेवन करते हैं तो ऐसा करने से आपको पीलिया की समस्या से तुरंत राहत पाने में मदद मिलती है।

जौ का पानी

पीलिया रोगी के लिए जौ का पानी पीना भी बहुत फायदेमंद होता है। क्योंकि इस पानी का सेवन करने से बॉडी में मौजूद अधिक बिलिरुबिन को बाहर निकलने में मदद मिलती है। जिससे आपको पीलिया से राहत पाने में मदद मिलती है। इसके लिए आपको एक कप जौ को दो लीटर पानी में तब तक उबालना चाहिए जब तक की पानी एक गिलास न रह जाए। यदि पानी को आप धीमी आंच पर उबालते हैं तो ज्यादा फायदा होता है। उसके बाद इसको ठंडा करके इसका सेवन जब तक करें जब तक की आपको पीलिया से पूरी तरह से आराम नहीं आ जाता है।

गन्ने का रस

गन्ने का रस भी पीलिया को खत्म करने का एक असरदार उपाय होता है, पीलिया की समस्या होने पर आपको नियमित दिन में दो बार ताजा गन्ने का रस जरूर पीना चाहिए। इसके अलावा यदि आप जौ का सत्तू खाकर उसके बाद गन्ने का रस पीते हैं तो आपको ज्यादा और जल्दी फायदा मिलता है।

लहसुन

लहसुन का सेवन करने से भी पीलिया के रोगी को जल्दी आराम पाने में मदद मिलती है। इसके लिए आप चार से पांच लहसुन की कलियों को एक गिलास दूध में उबाल लें, उसके बाद उस दूध को रोगी को पिला दें। जब रोगी दूध को पी लें, उसके बाद यह लहसुन की कलियाँ भी उसे खाने के लिए लिए इस उपाय को नियमित करने से आपको बहुत जल्दी फायदा मिलता है।

टमाटर

पीलिया के रोगी को टमाटर का भी अधिक सेवन करना चाहिए, क्योंकि टमाटर में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स जो की लाइकोपीन होता है आपको पीलिया से जल्दी राहत पाने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसमें विटामिन सी भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो की आपके लिवर को साफ़ करने का काम करता है।

पीलिया के रोगी को खान पान में इन चीजों का ध्यान रखना चाहिए

  • पीलिया के रोगी को हल्का व् आसानी से पचने वाला भोजन खाना चाहिए, जबकि अधिक तले भुने आहार और खटाई आदि से परहेज रखना चाहिए।
  • गुड़ और चने रात भर के लिए पानी में भिगो दें, और उसके बाद सुबह उठकर उस पानी का सेवन करें। और गुड़ चने को खूब चबाकर खाएं ऐसा करने से भी आपको पीलिया की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है।
  • कच्चे नारियल का पानी पीना भी पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद होता है, इसके अलावा छाछ, आदि का सेवन करना भी अच्छा होता है।
  • पीलिया के रोगी को नशीले पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • कैफीन युक्त पदार्थ जैसे चाय कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक आदि का भी अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए।
  • लौकी का सेवन करने से भी पीलिया रोगी को बहुत फायदा मिलता है।
  • गोभी और गाजर का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से भी आपको फायदा मिलता है।
  • सिंघाड़े का सेवन करने से भी पीलिया रोगी को जल्द ठीक होने में मदद मिलती है।
  • अनानास, पपीता का सेवन पीलिया के रोगी को भरपूर मात्रा में करना चाहिए।
  • पीलिया के रोगी को चुकंदर खाने से भी फायदा मिलता है।

तो यदि पीलिया का रोगी इन आहार का सेवन करता है तो उसे बहुत जल्द ठीक होने में मदद मिलती है। इसके साथ पीलिये के रोगी को साफ़ सफाई का भी अच्छे से ध्यान रखना चाहिए, अपने आहार को खुले में नहीं रखना चाहिए, खाने से पहले और बाद में अपने हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। कपड़ो आदि की भी साफ़ सफाई का ध्यान रखना चाहिए, ऐसा करने से उसे बहुत जल्दी इस समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है।

[Total: 0    Average: 0/5]