What In India

गर्भावस्था में बिस्कुट खाना कितना नुकसानदायक होता है?

0

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में हार्मोनल बदलाव होने के कारण महिला की जीभ के स्वाद में परिवर्तन आ जाता है जिसकी वजह से गर्भवती महिला की अलग अलग चीजें खाने की इच्छा हो सकती है। ऐसे में कुछ गर्भवती महिलाएं हल्की फुल्की भूख को मिटाने के लिए और क्रेविंग होने के कारण बिस्कुट का सेवन करना पसंद करती है। क्या आप भी माँ बनने वाली है और आप भी ऐसा करती हैं? यदि हाँ, तो आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी में बिस्कुट का सेवन करने से जुडी कुछ बातें बताने जा रहे हैं। जो आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।

गर्भावस्था में बिस्कुट खाना चाहिए या नहीं?

प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला स्वस्थ रहना चाहती है तो उसके लिए जरुरी है की महिला अपने खान पान का अच्छे से ध्यान रखें। और खान पान में केवल उन्ही चीजों को शामिल करें जो प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी तरह से नुकसानदायक नहीं हो। साथ ही महिला जो भी खाएं उसे सिमित मात्रा में ही खाएं। अब प्रेगनेंसी में बिस्कुट का सेवन करने के बारे में जानते हैं, प्रेगनेंसी के दौरान महिला यदि बिस्कुट का सेवन करती है।

तो महिला को शुगर और क्रीम से बने बिस्कुट, जरुरत से ज्यादा जिन बिस्कुट में फ्लेवर होता है वो बिस्कुट, बेसन के बिस्कुट आदि नहीं खाने चाहिए। क्योंकि यह बिस्कुट गर्भावस्था के दौरान माँ और बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हाँ, यदि आपको डॉक्टर कुछ अलग तरह के बिस्कुट खाने की सलाह देता है तो आप बिस्कुट का सेवन कर सकती है।

गर्भावस्था में बिस्कुट खाने के नुकसान

प्रेगनेंसी के दौरान महिला यदि गलत तरह के या जरुरत से ज्यादा बिस्कुट का सेवन करती है तो इसके कारण महिला को नुकसान पहुँच सकता है। साथ ही महिला को दिक्कत होने के कारण बच्चे पर भी नकारात्मक असर पड़ सकता है। तो आइये अब जानते हैं की बिस्कुट खाने से कौन से नुकसान होते हैं।

वजन बढ़ने का खतरा

यदि प्रेग्नेंट महिला शुगर व् क्रीम से बने बिस्कुट का सेवन करती है तो उसमे मीठे की मात्रा की अधिकता होती है। और मीठा अधिक खाने के कारण महिला का वजन जरुरत से ज्यादा बढ़ने का खतरा रहता है। और महिला का वजन जरुरत से ज्यादा बढ़ने के कारण प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स होने का खतरा बढ़ जाता है। जिसकी वजह से माँ और बच्चे दोनों को दिक्कत हो सकती है।

जेस्टेशनल डाइबिटीज़

बिस्कुट स्वाद में मीठे होते हैं ऐसे में जरुरत से ज्यादा बिस्कुट खाने के कारण महिला के ब्लड में शुगर लेवल बढ़ सकता है। जिसके कारण महिला को प्रेगनेंसी में जेस्टेशनल शुगर होने का खतरा बढ़ जाता है।

पेट से जुडी समस्या

यदि प्रेग्नेंट महिला बेसन के बिस्कुट का सेवन करती है तो इसके कारण प्रेग्नेंट महिला को पेट में गैस, पेट फूलना, पेट में दर्द जैसी परेशानियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

एलर्जी

कुछ बिस्किट्स को बनाने के लिए ग्लूटेन का इस्तेमाल किया जाता है और प्रेगनेंसी के दौरान इस तरह के बिस्कुट खाने से महिला को एलर्जी होने का खतरा अधिक होता है। ऐसे में महिला को ग्लूटेन फ्री बिस्कुट का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान करना चाहिए।

प्रेगनेंसी में कौन से बिस्कुट खाने चाहिए?

गर्भावस्था के दौरान महिला न्यूट्रिशनल बिस्कुट जैसे की प्रोटीन, कैल्शियम वाले बिस्कुट का सेवन महिला कर सकती है। इसके साथ प्रेग्नेंट महिला आटे से बने बिस्कुट जिन्हे पचाना महिला के लिए आसान हो उन बिस्कुट का सेवन भी गर्भवती महिला कर सकती है।

गर्भवती महिला को बिस्कुट खरीदते समय क्या ध्यान रखना चाहिए?

प्रेग्नेंट महिला को बिस्कुट खरीदते समय बिस्कुट के पैकेट पर देखना चाहिए की यदि बिस्कुट को बनाने में यदि किसी भी आर्टिफिशल चीज का इस्तेमाल किया गया है तो महिला को बिस्कुट नहीं खाने चाहिए।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान बिस्कुट का सेवन करने से जुड़े कुछ टिप्स, यदि आप भी माँ बनने वाली हैं तो इन सभी बातों का अच्छे से ध्यान रखें ताकि आपको बिस्कुट का सेवन करने के कारण किसी भी तरह का नुकसान नहीं हो।

Harmful effect of eating biscuit in Pregnancy

Leave a comment